Google AMP Review In Hindi, कैसे Use करते हैं, फायदे, नुकसान, सेटअप

Google AMP यानी की Accelerated Mobile Pages. हम यहां AMP से related सभी चीजों को जानेंगे।

Google AMP क्या होता है, इसे कैसे use करते हैं, इसको use करने के फायदे और नुकसान, क्या अंप SEO के लिए important factor है, क्या इसे हमें इसे इस्तेमाल करना चाहिए। Google AMP को पूरा जानने के लिए इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें।

Google AMP क्या है?

AMP की full form Accelerated Mobile page होती है। यह एक open source Framework होता है जिसकी मदद से हम अपनी वेबसाइट की loading speed बढ़ाकर उसे मोबाइल friendly बनाते हैं।

यह वेबसाइट के pages की loading speed बहुत तेज़ कर देता है जिससे यूजर्स को बड़े से बड़ा complex content आसानी से deliver  हो सके। इसकी मदद से pages instantly load ho जाते हैं।

Googel AMP setup कैसे करते हैं?

अगर आप एक वर्डप्रेस यूजर हैं तो आपके लिए एंप setup करना बहुत आसान है। आप बस एक plugin install करके ऐसा कर सकते हैं।

आप अपने plugin section में जाए और Add New पे क्लिक करें। अब search box पे AMP serach करें। आपको सबसे उपर AMP का plugin दिख जाएगा, उसे install कर दें और activate कर दें।  detailed AMP plugin setup के लिए आप यहां क्लिक करें।

अगर आप newspaper theme use करते हैं तो आपको किसी plugin use करने की जरूरत नहीं है। Newspaper Theme द्वारा amp setup करने का ऑप्शन दिया जाता है, उधर से आप AMP setup कर पाएंगे।

Google AMP कैसे काम करता है?

Google का AMP कैश एक वितरण नेटवर्क है जो प्रॉक्सी-आधारित है, जिसका उपयोग सभी मान्य AMP दस्तावेज़ों को वितरित करने के लिए किया जाता है। यह amp html पेजों को प्रसारित करता है, फिर उन्हें cache करता है, और फिर उनके पेज के प्रदर्शन में स्वचालित रूप से सुधार करता है।

इस amp cache का उपयोग करते समय, इसकी सभी जेएस फाइलों और छवियों वाला दस्तावेज़ उसी मूल से लोड होगा जो सबसे अधिक दक्षता के लिए HTTP 2.0 का उपयोग कर रहा है।

Google AMP बहुत तेज़ लोड करता है क्योंकि AMP JavaScript , Html/CSS को ब्लॉक कर देता जो कि मोबाइल में पेज कि स्पीड कम कर देते हैं। AMP pages Google द्वारा automatic Cached कर दिए जाते हैं और search results main जल्दी load होंने लगते हैं।

क्या Google AMP SEO factor है?

जैसा कि हमने बताया AMP हमारी website को इस तरह optimize करता है जिससे हमारी website fast load होती है । बता दें कि google amp Seo factor नहीं है और ना ही यह हमारी website को अथॉरिटी built करता है।

लेकिन पेज loading speed बहुत important SEO factor है। वेबसाइट की स्पीड जितनी अच्छी होगी, उसका असर वेबसाइट की रैंकिंग में होगा ।
इस तरह google amp indirectly SEO factor है।

AMP test कैसे करते हैं?

Amp setup करने के बाद आपको अगर amp test करना है जिससे यह पता चल सके कि आपकी website amp optimized है।

AMP test करने के लिए आप इस लिंक पर क्लिक करें। अब search box पे वेबसाइट के URL डालें और run test पे क्लिक करें। इसमें लगभग 2 मिनट का समय लगेगा।

अगर आपको Not Amp page का मेसेज आता है तो इसका मतलब है कि आपकी website amp optimized नहीं है , AMP activate नहीं है। इसके लिए आपको फिर से आंप सेटअप करना होगा और फिर आप amp test repeat करें।

अगर आपको रिजल्ट में ‘AMP Page’ का मेसेज मिलता है इसका मतलब आपकी साइट AMP optimized है।
AMP website पता लगाने का एक तरीका और है । आप गूगल क्रोम में अपनी साइट का url डालें, अगर रिजल्ट में आपको साइट के आगे Zigzag ⚡ का साइन है तो आपकी वेबसाइट में AMP activate है।

Google AMP website के ट्रैफिक को कैसे बढ़ाता है?

जैसा कि हम discuss कर चुके हैं , indirectly ranking factor है। Amp activate होने के बाद आपकी साइट search result पे उपर रैंक करती है। जितनी साइट कि रैंकिंग अच्छी होगी, ट्रैफिक उतना ही बढ़ जाएगा। इस तरह Amp site के ट्रैफिक को increase कर देता है।

Suppose करिए आपने “AMP Review in Hindi” topic पे एक आर्टिकल लिखा है और आपके competitor ने भी इसी टॉपिक पर कंटेंट लिखा है।

अब आपकी साइट पर amp activate है आऊर वहीं आपके competitor के साइट पर नहीं है। अब जब कोई यूजर इस query को सर्च करता है तो आपकी पोस्ट उसकी पोस्ट से उपर रैंक करेगी। इस तरह आपको amp का फायदा मिलता है और ट्रैफिक ज्यादा आता है।

अगर किसी यूज़र का नेटवर्क slow है तो आपको गूगल serach results पे amp activate site को preference देता है।

गूगल न्यूज में AMP का फायदा

गूगल न्यूज में AMP का बहुत अहम रोल है। न्यूज़ website daily 200-300 article publish करती हैं। और न्यूज लगभग 2-3 घंटे में पुरानी हो जाती है। ऐसे में कम समय में ज्यादा ट्रैफिक और high ranking के लिए amp बहुत जरूरी है।

बता दें कि रिपोर्ट के अनुसार गूगल amp CTR को 600 परसेंट increase कर देता है।

किन sites को Amp use करना चाहिए?

आपको गूगल amp का ध्यान से इस्तेमाल करना चाहिए। अगर आपकी website Technology, Travel, Food, SEO, Blogging, Finance, Sports, या Micro Niche blog है तो AMP aapji इस्तमाल नहीं करना चाहिए।

क्योंकि इन साइट में Amp लगाकर अपनी नुकसान होगा। इसकी बात हम बाद में करेंगे।
लेकिन अगर आप न्यूज website चलाते हैं तो आपको amp आपके लिए परफेक्ट ऑप्शन होगा।

AMP आपको कब इस्तेमाल करना चाहिए?

1) आपके page की लोड स्पीड बहुत कम हो।

2) जब आपके साइट पर majority traffic mobile devices से आता हो।

3) आपके साइट का बाउंस rate ज्यादा हो।

4) quality score और page experience बहुत कम हो।

5) आपके वेबसाइट का CTR (click through rate) बढ़ाने के लिए।

Google AMP को use करने के फायदे

1) रैंकिंग

AMP optimized website Google search results पे उपर रैंक करती हैं।

2) SEO factor

AMP site speed को increase कर देता है और स्पीड important SEO factor है।

3) traffic

Amp optimised site पे ट्रैफिक बढ़ जाता है क्योंकि रैंकिंग ही ट्रैफिक increase करती है।

4) CTR

AMP को वेबसाइट पर use करने से CTR increase होता है।

5) Bounce Rate

Page की लोड स्पीड अच्छी होने से बाउंस rate decrease होता है।

AMP use करने के नुक़सान

जैसा कि हमने बताया amp कुछ JavaScript और html को ब्लॉक कर देता है लेकिन उसकी वजह से हमारी साइट का real content users तक नहीं पहुंच पाता।

Amp use करने से आपकी website की customised theme design बिगड़ जाती है और लुक भी अच्छा नहीं आता। हालांकि आप edit करके सही कर सकते हैं लेकिन एक beginner के लिए एसा करना बहुत मुश्किल है।

तीसरी सबसे बड़ी समस्या है कि हमारी website पे जो AdSense के एड्स दिखाए जाते हैं बो बाद में लोड होते हैं पहले कंटेंट लोड हो जाता है। जिससे हमारे revenue par असर पड़ता है।

तो ये था गूगल AMP का detailed Review. हमें उम्मीद है अब amp से related कोई doubts नहीं है।

Also Read – 10 WordPress website Alternatives 

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Comment