Mehul Choksi कौन है । क्या है मेहुल चौकसी का PNB Scam से नाता।

कौन है मेहुल चौकसी ?(Who Is Mehul Choksi)

चौकसी भारत के मशहूर हीरा व्यापारी है जो कि “गीतांजली जेम्स लिमिटेड”  नाम की कंपनी के मालिक है,यह कंपनी हीरे जवाहरातों से बने उत्पादों को देश के बाहर भी निर्यात करती है जिनमे इटली,चाइना,जापान,थाईलैंड,हांगकांग जैसे नाम प्रमुख हैं. हीरे और गहनों के लिए गीतांजलि के कई ब्रांड्स जैसे गिली,नक्षत्र,अस्मि,माया,दिया,संगिनी इत्यादि भी है .

मेहुल चौकसी का परिवार (Mehul Choksi Family)

चौकसी का जन्म गुजरात के व्यापारी चिनुभाई चौकसी के यहाँ 5 मई 1960 को हुआ था, चौकसी जैन परिवार से आते है.चौकसी की लम्बाई 5 फुट 5 इंच और वजन लगभग 120किलो है,उनकी आँखे गहरे भूरी रंग की जबकि बाल काले है. चौकसी के 3 बच्चे है जिनमे 1 का नाम राहुल है और बाकि 2 बेटियां है जिनमे एक का नाम प्रियंका है. चौकसी को मेहुल भाई कहकर भी बुलाते है. मेहुल ने गुजरात के पालमपुर के जी.डी मोदी कॉलेज से पढाई की, फिर मुंबई यूनिवर्सिटी से पढाई को बीच में छोडकर अपने पिताजी के बिजनेस से बिजनेस सीखना शुरू कर दिया.

मेहुल का व्यापारिक करियर (Mehul’s Business Carrier)

चौकसी ने अपने पिता के साथ कारोबार में हाथ बताना शुरु किया जिसे उन्होंने साल 1960 में शुरू किया था. जिसके 26 साल बाद 1986 में चौकसी ने गीतांजलि जेम्स लांच किया, जो कि थोड़े समय में ही रफ़ और पॉलिश हीरे और जवाहरात को एक्सपोर्ट करने वाली देश की सबसे बड़ी कंपनियों में शामिल हो गई. 90 के दशक की शुरुआत में मोदी में गहनों के व्यापार में रिटेल की सम्भावना को समझा,और गीतांजली ने 1994 में अपना ज्वैलरी ब्रांड “गिली” लांच किया. इसके मार्जिन्स ज्यादा थे और चौकसी के ब्रांड को मैनेजमेंट गुरु और बॉलीवुड की सेलिब्रिटी की मदद से आगे ले जाया गया,इसके बाद तो अगले दशक तक गीतांजलि  ने अपना व्यापार देश-विदेश तक फैला लिया था.

मेहुल चौकसी ने गुजरात के पालनपुर से हीरों की दुनिया में कदम रखा और फिर पीछे मुड़कर नहीं देखा। मेहुल चौकसी, नीरव मोदी के मामा हैं। मेहुल गहनों के बड़े कारोबारी हैं। ज्वैलरी की दुनिया का एक बड़ा नाम है। मेहुल की कंपनी गीतांजलि का सालाना टर्नओवर करीब 13 हजार करोड़ का है। गीतांजलि का कारोबार देश के साथ-साथ दुनिया भर के कई देशों में भी फैला है। गीतांजलि दुनियाभर में हीरों का निर्यात करती है।

Also read – Kya h super cyclone yaas.

गीतांजलि कंपनी की स्थापना साल 1966 में सूरत में मेहुल चौकसी के पिता ने की थी। वे जाने-माने कारोबारी थे और उन्होंने हीरों की कटिंग और पॉलिशिंग के लिए यह कंपनी खोली थी। कंपनी का नाम, मेहुल की दो बहनों गीता और अंजलि के नाम को मिलाकर रखा गया। मात्र 26 साल की उम्र में मेहुल चौकसी ने कंपनी की बागडोर अपने हाथ में ली। फिर शुरू हुआ नाम और शोहरत का खेल और इस कड़ी में सबसे पहले शुरू हुई पहली ब्रांडेड ज्वैलरी लाइन गिली।

2001 से 2005 के बीच गीतांजली समूह ने नक्षत्र, अस्मी, डीडमॉस और संगनी ब्रांड नाम से बाजार में कदम रखे। 2006 से 2016 के बीच मेहुल चौकसी ने अमेरिका में रिटेल चेन रोजर्स एंड सैमुअल, इटली की गियानती इटालिया, डीआईटी और वेलेंटा ब्रांड खरीद लिया। मेहुल ने जब गीतांजलि को संभाला था, तब टर्नओवर 50 करोड़ का था। आज गीतांजली कुल कारोबार 2 अरब डॉलर पहुंच चुका है।

अब जानिए बड़ी बात और वो ये कि मेहुल चौकसी पीएनबी घोटाले में आरोपी तो हैं ही, उन्हें चंडीगढ़ की अदालत ने भी भगौड़ा करार दे रखा है। एक करोड़ के चेक बाउंस मामले में पिछले साल मेहुल को भगौड़ा करार दिया गया था। पीएनबी स्कैम में कार्रवाई करते हुए ईडी ने चंडीगढ़ में गीतांजली के आउटलेट पर भी छापेमारी की, जिसमें टीम ने गहनों व कीमती घड़ियों को जब्त किया। जांच के लिए महत्वपूर्ण दस्तावेजों को भी कब्जे में लिया।

मेहुल चौकसी और बैंक घोटाला (Mehul Choksi PNB Bank Scam)

ED का कहना है कि मोदी और चौकसी, दोनों को मनी लांड्री एक्ट के तहत समन दिया गया,और एक सप्ताह के भीतर पैसा लौटाने को कहा गया हैं.दोनों के देश में ना होने की स्थिति में इनकी फर्म को नोटिस भेजा गया है. ED ने अब तक मोदी और चौकसी के कई शोरूम्स, वर्कशॉप,ऑफिस और घर पर छापा मारकर लगभग 5100 करोड़ तक के हीरे,गहने और सोना एकत्रित किये है.

ED ने कहा हैं कि देश छोड़ने से पहले मोदी और चौकसी दोनों ने अपने कंपनी डायरेक्टर्स,परिवार के सदस्यों को रत्न और आभुषण को छुपाकर रखने को कहा था क्यूंकि उन्हें यह डर था कि जांच एजेंसियां इन जगहों पर छापे मारकर अपनी राशि को वापिस लेने का प्रयास करेगी. ED ने अभी तक 11 शहरों में 45 जगहों बैंगलोर,दिल्ली,अहमदाबाद,चंडीगढ़,कोलकाता,पटना,लखनऊ,मुंबई,चेन्नई,हैदराबाद और गुवाहटी शामिल है, पर छापे मारे हैं.

Also read – Yellow fungus kya h?Poori jaankari.

मेहुल चोकसी के अन्य विवाद।

अपने युवावस्था से ही मेहुल ज्वेलेरी की दुनिया में सबसे बड़े व्यपारी बनना चाहते थे. कुछ बॉलीवुड की सेलिब्रिटी जैसे कटरीना कैफ,ऐश्वर्या राय बच्चन जैसे बड़े नामों ने भी मेहुल के ज्वेलेरी का  विज्ञापन किया है. 2011 में मेहुल ने नई दिल्ली के एशिया पसिफ़िक एंटरप्रेन्युरशिप (Pacific Entrepreneurship) में अवार्ड भी जीता था.

मेहुल इससे पहले भी विवाद का हिस्सा तब बने थे जब गीतांजली के पूर्व डायरेक्टर संतोष श्रीवास्तव और अन्य फ्रैंचाइज़ी होल्डर ने कहा था कि मेहुल द्वारा बेचे गए ज्यादातर डायमंड अपनी सेलिंग प्राइस के मुकाबले ख़राब गुणवत्ता के साथ लैब में बनाए गए हैं.

फरवरी 2018 में पंजाब नेशनल बैंक ने मेहुल और उनके भांजे नीरव मोदी के खिलाफ 11400 करोड़ की धोखाधड़ी  का case दर्ज किया. बैंक ने ये भी कहा कि उन्होंने बैंक गारंटी या लेटर ऑफ़ अंडरटेकिंग (LoU) का गलत इस्तेमाल किया है.

फिलहाल क्यूं बने हैं चर्चा का विषय।

भगोड़ा हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी लापता हो गया है, जिसके बाद एंटीगुआ पुलिस ने उसकी तलाशी शुरू कर दी है। अधिकारियों ने मंगलवार को इसकी पुष्टि की है। चोकसी के वकील विजय अग्रवाल ने भी एंटीगुआ से स्थानीय रिपोर्टों के तुरंत बाद इसकी पुष्टि की है। चोकसी ने एंटीगुआ में एक नागरिक के रूप में शरण मांगी है। वकील ने कहा कि वह सोमवार को अपने घर से ‘द्वीप के दक्षिणी हिस्से में एक प्रसिद्ध रेस्तरां में रात का खाने के लिए जाने के लिए निकला। इसके बाद वह वापस नहीं लौटा।

antiguanewsroom.com की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि हीरा कारोबारी मेहुल टोकसी की कार देर शाम जॉली हार्बर में मिली है। हालांकि वह उसमें नहीं था। 

हिन्दुस्तान टाइम्स से बात करते हुए चोकसी के वकील अग्रवाल ने कहा, “मेहुल चोकसी लापता है। उसके परिवार के सदस्य चिंतित हैं। उन्होंने मुझे चर्चा के लिए बुलाया है। एंटीगुआ पुलिस इसकी जांच कर रही है। परिवार अंधेरे में है और उनकी सुरक्षा को लेकर चिंतित है।”

एंटीगुआ और बारबुडा में रहने वाले 61 वर्षीय भारतीय कारोबारी और गीतांजलि समूह के मालिक मेहुल चोकसी को केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने वांटेड घोषित कर रखा है। मेहुल चोकसी ने मेगा-घोटाले के सामने आने से एक महीना पहले 4 जनवरी, 2018 को एंटीगुआ भागने से पहले ₹13,578 करोड़ पीएनबी धोखाधड़ी में करीब ₹7,080 करोड़ की हेराफेरी की।

Also read – Bernard Arnault biography in Hindi.

Leave a Comment

%d bloggers like this: