White fungus क्या है? जानें क्या है व्हाइट फंगस के लक्षण और बचने के उपाय।

बिहार में अब ब्लैक फंगस के बाद व्हाइट फंगस ने भी दस्तक दे दी है। राजधानी पटना में व्हाइट फंगस के 4 मरीज मिले हैं।

क्या है व्हाइट फंगस?

व्हाइट फंगस को मेडिकल टर्म में कैंडिडोसिस भी कहते हैं। ये बेहद खतरनाक है। व्हाइट फंगस फेफड़ों के संक्रमण का मुख्य कारण है। ये बीमारी फेफड़ों के साथ साथ त्वचा, मुंह के अंदर के भाग, किडनी, आंत, ब्रेन, प्राइवेट पार्ट्स और नाखून को भी संक्रमित कर दे सकता है।

व्हाइट फंगस से बचने के लिए इन बातों का रखें ध्यान
अस्पतालों में भर्ती होने वाले जिन मरीजों के कोरोना टेस्ट निगेटिव हों लेकिन फेफड़ों में इंफेक्शन हो यानि एचआरसीटी में कोरोना जैसे लक्षण मिले उनकी सही से जांच की जानी चाहिए उनके बलगम का फंगस कल्चर होना चाहिए, ताकि शरीर में फंगस का पता चल पाए।

ऐसी हालत वाले मरीज अगर ऑक्सीजन या वेंटीलेटर सपोर्ट पर हैं तो उनके ऑक्सीजन या वेंटीलेटर मशीन को जीवाणु मुक्त होना चाहिए आक्सीजन सिलेंडर ह्मूडिफायर में स्ट्रेलाइज वाटर का उपयोग करना चाहिए मरीजों को जो ऑक्सीजन सिलेंडर लगाया जाए, वह जीवाणु मुक्त हो।

कोरोना और व्हाइट फंगस में अंतर करना मुश्किल
व्हाइट फंगस से फेफड़ों के संक्रमण के लक्षण एचआरसीटी में कोरोना जैसे ही दिखते हैं। इसमें अंतर करना मुश्किल हो जाता है। ऐसे मरीजों में रैपिड एंटीजन और आटी-पीसीआर टेस्ट निगेटिव होता है। एचआरसीटी में कोरोना जैसे लक्षण (धब्बे हो) दिखने पर रैपिड एंटीबॉडी टेस्ट और फंगस के लिए बलगम का कल्चर करवाना चाहिए। कोरोना मरीज जो ऑक्सीजन सपोर्ट पर हैं उनके फेफड़ों को यह संक्रमित कर सकता है।

बता दें कि व्हाइट फंगस भी ब्लैक फंगस की तरह प्रतिरोधक क्षमता की कमी के कारण हो रहा है। डायबिटीज, एंटीबायोटिक का सेवन या फिर स्टेरॉयड का लंबा सेवन। कैंसर के मरीज जो दवा पर हैं। उन्हें यह जल्दी होता है।

मरीजों में कोरोना जैसे लक्षण दिख रहे थे लेकिन उनको कोरोना था ही नहीं. उनके सभी टेस्ट नेगेटिव थे. टेस्ट करवाने पर इस बात का खुलासा हुआ कि वे व्हाइट फंगस से संक्रमित हैं.

व्हाइट फंगस से फेफड़ों के संक्रमण के लक्षण HRCT में कोरोना जैसे ही दिखते हैं। इसमें अंतर करना मुश्किल हो जाता है। ऐसे मरीजों में रैपिड एंटीजन और RT-PCR टेस्ट निगेटिव होता है। HRCT में कोरोना जैसे लक्षण (धब्बे हो) दिखने पर रैपिड एंटीबॉडी टेस्ट और फंगस के लिए बलगम का कल्चर कराना चाहिए। कोरोना मरीज जो ऑक्सीजन सपोर्ट पर हैं उनके फेफड़ों को यह संक्रमित कर सकता है।

Also read – Friends the reunion trailer review in Hindi.

ब्लैक फंगस से खतरनाक है व्हाइट फंगस।

यह बीमारी ब्लैक फंगस से भी ज्यादा खतरनाक (More Dangerous Than Black Fungus) बताई जा रही है. कहा जा रहा है कि व्हाइट फंगस से भी कोरोना की तरह फेफड़े संक्रमित होते हैं. वहीं शरीर के दूसरे अंग जैसे नाखून, स्किन, पेट, किडनी, ब्रेन, प्राइवेट पार्ट्स और मुंह के अंदर भी संक्रमण फैल सकता है.

प्रतिरोधक क्षमता की कमी से ऐसा हो रहा।

व्हाइट फंगस के भी वही कारण हैं जो ब्लैक फंगस के हैं जैसे प्रतिरोधक क्षमता की कमी। डायबिटीज, एंटीबायोटिक का सेवन या फिर स्टेरॉयड का लंबा सेवन। कैंसर के मरीज जो दवा पर हैं। उन्हें यह जल्दी अपनी गिरफ्त में लेता है।

नवजात भी होते हैं संक्रमित।

नवजात में यह डायपर कैंडिडोसिस के रूप में होता है। जिसमें क्रीम कलर के सफेद धब्बे दिखते हैं। छोटे बच्चों में यह ओरल थ्रस्ट करता है। महिलाओं में यह ल्यूकोरिया का मुख्य कारण है।

इससे बचने के लिए क्या करना चाहिए।

ऐसी स्थिति में जो मरीज ऑक्सीजन या वेंटिलेटर पर हैं उनके ऑक्सीजन या वेंटिलेटर उपकरण विशेषकर ट्यूब आदि जीवाणु मुक्त होने चाहिए। ऑक्सीजन सिलेंडर ह्यूमिडिफायर में स्ट्रेलाइज वाटर का प्रयोग करना चाहिए। जो ऑक्सीजन मरीज के फेफड़े में जाए वह फंगस से मुक्त हो। वैसे मरीजों का रैपिड एंटीजन और RT-PCR टेस्ट निगेटिव हो और जिनके HRCT में कोरोना जैसे लक्षण हों। उनका रैपिड एंटीबॉडी टेस्ट कराना चाहिए। साथ ही बलगम के फंगस कल्चर की जांच भी कराना चाहिए।

Also read – Cryptocurrency kya h?Charcha me kyon h.

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Comment